Sunday, March 25, 2012

कुछ ख़याल जो छूट गए..

!! कभी दिल में तमन्ना हो
   तो आ जाना मेरे दुश्मन,
   किसी बेगाने मंज़र में
   गिले शिक़वे भुला लेंगे !!

*****

!! मेरा मौला वहीँ रहता
   जहाँ दिल साफ़ बसते हैं,
   वो इंसानी फ़रिश्ते जो 
   ज़ुबां से साज़ लिखते हैं !!

*****

!! वो हर पल बात करते हैं
    मेरे दिल को जलाने की,
    ना उनको इल्म है इतना
    ये दिल आंसू बहाता है !!

*****

9 comments:

  1. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    की ओर से नव संवत्सर व नवरात्रि की शुभकामनाए।

    ReplyDelete
  2. मेरा मौला वहीँ रहता
    जहाँ दिल साफ़ बसते हैं,
    वो इंसानी फ़रिश्ते जो
    ज़ुबां से साज़ लिखते हैं !!bahut badhiya

    ReplyDelete
  3. वाह...
    बेहद खूबसूरत!!!!!

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुन्दर,,
    बेहतरीन रचना...

    ReplyDelete
  5. !! मेरा मौला वहीँ रहता
    जहाँ दिल साफ़ बसते हैं,
    वो इंसानी फ़रिश्ते जो
    ज़ुबां से साज़ लिखते हैं !!

    ....बहुत सुंदर....

    ReplyDelete
  6. आज आपके ब्लॉग पर बहुत दिनों बाद आना हुआ अल्प कालीन व्यस्तता के चलते मैं चाह कर भी आपकी रचनाएँ नहीं पढ़ पाया....बहुत बेहतरीन प्रस्‍तुति...!

    ReplyDelete
  7. तिलमिलाहट की प्रभावपूर्ण अभिव्यक्ति

    ReplyDelete