Thursday, April 12, 2012

फसल हसरतों की


ख़यालों ने ज़हन में
एक ज़मीं सी बनाई है,
हसरतों के बीज 
जो गिराए मैंने-
अहसासों ने बड़े अदद से
सींचा है उन्हें..
जिस्म ने,
लहू के कतरे कतरे से
खींचकर साँसें कुछ-
उग रहे नन्हे पौधों को 
बड़ी शिद्दत से पिलाई हैं..
अब फसल पकने का इंतज़ार है,
ये हसरतें भी-
लहलहायेंगीं,
रंग लायेंगीं कभी..

29 comments:

  1. बहुत सुंदर............

    आशा की फसल ज़रूर लहलहाएगी.................
    मीठे मीठे फलों से भर देगी दामन.......................

    अनु

    ReplyDelete
  2. हसरतें भी-
    लहलहायेंगीं,
    रंग लायेंगीं कभी.... ?
    जरुर .... अवश्य .... बेशक ....

    ReplyDelete
  3. मेहनत का फल अवश्य मिलता है....ब्रजेन्द्र जी,...

    आपका फालोवर बन गया हूँ आप भी बने मुझे खुशी होगी,...

    अनुपम भाव लिए सुंदर रचना...बेहतरीन पोस्ट
    .
    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: आँसुओं की कीमत,....

    ReplyDelete
  4. अच्छी अभिव्यक्ति, बधाईयाँ !

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर,बधाई.

    ReplyDelete
  7. बहुत खूबसूरत ...कविता बार बार पढने को मजबूर करती है

    ReplyDelete
  8. अरे ये प्यारी रचना तो हमने कभी की पढ़ ली थी...और हमारा कमेन्ट भी नदारद है??????

    ReplyDelete
  9. अरे ये प्यारी सी रचना तो हम कभी की पढ़ चुके हैं.....और हमारा कमेंट भी नदारद है?

    ReplyDelete
  10. ज़रूर रंग लायेंगी .....!!!!

    ReplyDelete
  11. अरे हमारी टिप्पणियां तो खोज लाइए बिरजू जी...

    ReplyDelete
    Replies
    1. sorry Anuji, thode din pahle blog ka url change kiya tha..usme shayad kahi gum ho gayi hongee. lautne ke liye dhanyvaad :)

      Delete
  12. बहुत सुंदर .... टिप्पणियाँ कभी कभी स्पैम में अटक जाती हैं ...

    ReplyDelete