Monday, May 21, 2012

काली गठरी रात की


वो गुज़री शाम का दामन
पकड़कर रात आयी है,
उजाले के टुकड़े
बचे हुए कुछ  
पड़े थे ज़मीन पर,
समेटने उन्हें
ये काली गठरी लिए आयी है..
गुजारिश  है तुझसे 
ऐ शब् !!
ज़रा झलका दे ये गठरी 
गिरा दे एक  टुकड़ा 
उजाले का मेरे दिल में,
अरसे से वहां 
अँधेरे बहुत हैं...


20 comments:

  1. वाह.........................
    सुंदर....
    अति सुंदर.....

    देर आये दुरुस्त आये....
    :-)

    ReplyDelete
  2. ज़रा झलका दे ये गठरी
    गिरा दे एक टुकड़ा
    उजाले का मेरे दिल में,
    अरसे से वहां
    अँधेरे बहुत हैं...

    bahut khoob...!

    ReplyDelete
  3. ज़रा झलका दे ये गठरी
    गिरा दे एक टुकड़ा
    उजाले का मेरे दिल में,
    अरसे से वहां
    अँधेरे बहुत हैं...बहुत ही खुबसूरत ख्यालो से रची रचना......

    ReplyDelete
  4. ज़रा झलका दे ये गठरी
    गिरा दे एक टुकड़ा
    उजाले का मेरे दिल में,
    अरसे से वहां
    अँधेरे बहुत हैं...
    वाह ...बहुत खूब लिखा है ... आपने

    ReplyDelete
  5. concluding lines r awesome !!!
    intense n full of meaning

    ReplyDelete
  6. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 24 -05-2012 को यहाँ भी है

    .... आज की नयी पुरानी हलचल में .... शीर्षक और चित्र .

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर रचना ...बधाई

    ReplyDelete
  8. वाह...सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  9. वाह!!! बहुत खूब लिखा है आपने....

    ReplyDelete
  10. बहुत खूब ! सुन्दर भावमयी रचना...

    ReplyDelete
  11. कल 30/05/2012 को आपके ब्‍लॉग की प्रथम पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.

    आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!


    '' एक समय जो गुज़र जाने को है '

    ReplyDelete
  12. ऐ शब् !!
    ज़रा झलका दे ये गठरी
    गिरा दे एक टुकड़ा
    उजाले का मेरे दिल में,
    अरसे से वहां
    अँधेरे बहुत हैं...
    ..बहुत सुन्दर ....

    ReplyDelete
  13. bahut hi sundar bhavmay karati rachana...
    ज़रा झलका दे ये गठरी
    गिरा दे एक टुकड़ा
    उजाले का मेरे दिल में,
    अरसे से वहां
    अँधेरे बहुत हैं...
    ye panktiya to bahut hi behtarin hai...

    ReplyDelete
  14. उजाले का मेरे दिल में,
    अरसे से वहां
    अँधेरे बहुत हैं...
    हर शब्‍द बहुत कुछ कहता हुआ, बेहतरीन अभिव्‍यक्ति के लिये बधाई के साथ शुभकामनायें ।

    ReplyDelete